Encryption और Decryption क्या है, उनमें क्या अंतर है?

26
Encryption और Decryption क्या है

पिछले दिनों में आपने जरूर सुना होगा कि Whatsapp के द्वारा भेजे गए Messages Encrypted होते हैं। कोई भी आपके तीसरा आदमी आपके Message को पढ़ नहीं सकता। भले ही Super Computer का भी Use किया जाय फिर भी उसके Data को कोई Decrypt नहीं कर सकता। यहाँ तक कि स्वयं Whatsapp भी आपके Data को नहीं पढ़ सकता। ऐसे एक सवाल आपके Mind में जरूर आता होगा कि Encryption और Decryption क्या है और यह कैसे काम करता है?

Encryption को समझने से पहले आपको एक Term जानना चाहिए जिसे Cryptography कहा जाता है।

Cryptography क्या है?

Cryptography एक Technology है, जिसके मदद से Communication के दौरान Data को Secure रखा जाता है। किसी Unauthorized Access से Data को सुरक्षित रखने में ये काफी मददगार है।

Encryption और Decryption दोनों Cryptography के मुख्य Function हैं।

जब एक Message या Data को Network के द्वारा Transfer किया जाता है, तो इसे Encrypt कर दिया जाता है। Encryption एक ऐसा Process है, जिसमें Data को ऐसे Form में Convert कर दिया जाता है, जो किसी के भी द्वारा आसानी से नहीं समझा जा सकता है। इसे पढ़ने के लिए Special Key कि जरूरत होती है। Message को जब Receiver के द्वारा Receive कर लिया जाता तो, उसे फिर अपने Original Form में वापस लाया जाता है, जिसे Decryption कहा जाता है।  

Encryption क्या है?

Encryption एक Process है जिसमे Data को ऐसे Form में Convert कर दिया जाता है, जो अपने Original Form से बिल्कुल अलग होता है। यही कारण है कि Hackers इन Data को पढ़ नहीं पाते।

Data को Encrypt इसलिए किया जाता ताकि कोई इसे चुरा न सके।

Decryption क्या है?

Encoded या Encrypted Data को फिर उसके Original Form में लाने के Process को Decryption बोला जाता है। ताकि Computer या इंसान के द्वारा Data को पढ़ा जा सके।

Encrypted Data को Decrypt करने के लिए Special Information कि जरूरत पड़ती है। जिसे Key बोला जाता है। इसके लिए जिस Algorithm का Use किया जाता है उसे Cipher कहा जाता है। Encrypted Information को Cipher Text भी कहा जाता है।

Encryption का उपयोग आमतौर पर Defense Service में किया जाता है। इसके साथ साथ Online Banking, E-Commerce, Mobile Services आदि में भी इसका Use होता है। जहां Data की Security बेहद महत्वपूर्ण होती है ।

Flexcrypt एक प्रसिद्ध Encrypting Software है जिसे Free में Download किया जा सकता है।

Flexcrypt को Download करने के लिए यहाँ क्लिक करें

क्यों Use किया जाता है Encryption और Decryption का?

  • क्योकि इससे आपके Confidential Data सुरक्षित रहते हैं।
  • इससे यह सुनिश्चित होता है कि Original Data के साथ कोई छेड़-छाड़ न हो।
  • Encryption के कारण Data चोरी होने का डर नहीं रहता।
  • Network Communication के दौरान Hackers Data को Access नहीं करे इसके लिए भी यह अनिवार्य है।

Keys के प्रकार

Symmetric Key:

इस Algorithm में Plain Text के Encryption एवं Cipher text के Decryption में Same Key का Use किया जाता है।

Asymmetric Key:

Asymmetric Encryption में Encryption के लिए में 2-pair Key का use किया जाता है। Public Key सभी के लिए उपलब्ध होता है जबकि Secret Key Message के receiver को मालूम रहता है।

Public Key:

Public Key Encryption 2-Pair key पर आधारित होता है। Receiver के लिए Message को encrypt करने के लिए Public Key का use किया जाता है।

Private Key:

Private Key Public/Private asymmetric Key pair का एक भाग हो सकता है। Asymmetric encryption में इसका use किया जा सकता है।

Pre-Shared Key:

Cryptography में, Pre- shared key या PSK एक shared secret key होता है, जिसे पहले ही sender और receiver के साथ share किया जाता है।

ये भी पढ़ें:- Cyber Crime क्या है?

तो इस Post में हमने जाना Data Security के दो महत्वपूर्ण process के बारे में। उम्मीद है अब आप जान ज्ञे होंगे कि Encryption और Decryption क्या है और उनमें क्या अंतर है? Post कैसा लगा, हमे बताइएगा जरूर।  धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.